आखिर क्यूँ रोका गया ‘बसंत’ का ‘रथ’?

अभी हाल ही में एक खबर आयी की Jammu Kashmir के DGP Shesh Paul Ved ने IGP बसंत रथ को अपने unique और unconventional  style  से काम करने वाले रथ को धीमा या बंद करने की warning दी है। DGP Ved ने IGP बसंत रथ पर service conduct rules, operating without uniform, hurling abuses, and manhandling commuters के technical और legal शब्दों के कोड़ों से उनके बेखौफ, ईमानदार, और योशिले घोड़ों की रफ़्तार को कम करने की और उन्हें सुधरने की सख्त warning दी है। जिस दिन से यह warning आयी है क़ानून तोड़ने वालों की मानो जान में जान आ गयी हो, उनकी मानो तो हर दिन party और चांदी हो गयी हो।

आखिर ऐसा क्यूँ होता है की जब भी कोई वर्दी, ईमान, और कानून का सच्चा वफादार सिपाही या अफसर anti-law, anti-social या anti-humanity के हक़ में डट कर मुक़ाबला करने की कोशिश करता है तो उसकी आज़ादी और महान सपनों के पर काट दिए जाते हैं। ऐसा क्यूँ होता है की जब भी समाज की रुग्ण हो चुकी आत्मा को बुराई या जंगलराज के कीटाणुओं से मुक्त करने के लिए कोई दलेर और उसूलों से भरा अफसर अपनी जान लगा देता है तो कुछ ही दिनों या हफ़्तों में उसे हटाने की भरपूर कोशिश की जाती है?

बसंत रथ के आने से Jammu की खस्ता हो चुकी traffic की हालत एकदम से सुधरने लगे थी। यह IGP बसंत की ही जादूगिरी थी की  traffic laws को तोड़ने वालों  की pants गीली होने लगी थी, जहां unnecessary traffic jam होता था वहां roads एकदम खाली होने लगी थीं, जम्मू की roads के दोनों तरफ  illegal constructions या business points को हटाया जा रहा था और इससे roads काफी widened, neat, and clean हो गयी थी, traffic laws और traffic signals की पूरी ईमानदारी से पालन किया जा रहा था, हर कोई अपनी गाडी के documents proper और updated करने में लगा हुआ था, हर कोई गाडी में mobile करने से डरने लगा था, और तो और जहाँ तक की corrupt traffic police वालों का तो हफ्ता बंद हो चुका था जिन्होने  Banihal Tunnel को अपने लिए सोने की अंडे देने वाली मुर्गी बना रखा था। Banihal Tunnel पर तो मानो corrupt police वालों की धाक चलती थी। वहाँ से न जाने कितना करोड़ corrupt ministers को हर हफ्ते पहुँचता था।  और न जाने कहाँ कहाँ से corrupt police वाले हफ्ता इकठा करते थे जो कि बसंत रथ के traffic chief बनने पर बंद हुआ जा रहा था।

बात मेरी होती तो कह सकते थे कि मेरा opinion biased है पर उन You Tube या whatsapp videos को बनाने वालों की सुनने जो बसंत रथ के काम करने के तरीकों से काफी impressed और inspired हैं तो ऐसा लगता है की इस पुलिस अफसर में कोई न कोई तो ऐसी खासियत जरूर है जिससे समाज को अपना गुलाम बना कर लूटने वालों की रोजी रोटी पर गहरा आघात पहुँचता है।

जो काम corrupt ministers या corrupt administrative officers खुद नहीं कर पाए, वह काम DGP Ved का भेजा  गया  warning letter कर गया। बसंत रथ के नाम DGP Ved का warning letter तो महज एक signal या power stroke हो  सकता है। और हम सभ भली भाँती जानते हैं कि यह signal या power stroke क्या होता है।

Leave a Reply