DOCTORS, CHEMISTS और PHARMA COMPANIES के खतरनाक षड़यंत्र का पर्दाफाश!

0
14

बिमारी  किसी  भी  वक़्त  किसी  को  भी  लग  सकती  है  मगर  हम  में  से  कईं  लोग  ऐसे  भी  हैं  जिन्हें  यह  भी  नहीं  मालुम  की  उन्हें  in  reality बिमारी  है  की  भी  नहीं!  हाँ  दोस्तों, आप  मेरी  बात  सुन  कर  काफी  surprised हुए  होंगे  मगर  यह  सच  है।  Nowadays, ऐसा  trend  चल  पड़ा  है  की  doctors हमारी  बिमारिओं  की  बदौलत  खूब  पैसा  कमा  रहे  हैं।  अपने लिए top brands  की cars खरीद रहे हैं। अपनी families  के साथ international  tours  पर जा रहे हैं।  बीमारयां  भी  ऐसी  जो  हमें  है  ही  नहीं, बीमारयां  जो  हमारे  शरीर  में  तो  नहीं  हैं  पर  झूठ  मूठ  का  CT Scan करा   कर  बता  दिया  जाता  है  की  हम  बीमार  हैं! आम  लोगों  को  ‘Disease Mongering’ के  नाम  पर  डराया  जाता  रहा  है  और  आज  भी  डराया जा  रहा  है। Disease Mongering का  मतलब  है  की  बिमारी  जो  है  ही  नहीं  उसे  serious बिमारी  बता  कर  समाज  में  एक  fear या  phobia create किया  जाता  है  ताकि  maximum से  maximum medicines आराम से  बिक  सकें।

 

खॉंसी, जुकाम, बदन  दर्द, सिरदर्द  या  टाँगदर्द  की  छोटी  परेशानिओं  को  बड़ी  बिमारिओं  का  संकेत  बता  कर  आम  और  innocent  लोगों  को  डराया  जाता  है। उन्हें  इस  कदर  frighten या  psychologically harass किया  जाता  है  कि  वो  मजबूर  हो  कर  costly से  costly tests या  scans कराने  के  लिये  तैयार  हो  जाते  हैं  और  जहां  तक  कि  अपना  सब  कुछ  लुटाने  के  लिए  मजबूर  हो  जाते  हैं  क्यूंकि  उन्हें  यह  कह  कर  गुमराह  किया  जाता  है  कि  if health remains fine then sooner or later they can earn any amount of money as they desire.

 

इस  सारे  evil and wicked nexus को  ‘Corporate Construction Of Disease’ भी  कहा  जाता  है  जिसका  मतलब  है  कि  बड़ी  बड़ी  pharmaceutical companies doctors से  गाँठ  साँठ करकर  आम  आदमी  के  मन  में  बिमारी  के  डर  को  create करती  हैं  ताकि  वे  अपनी  costly और  high-profit making medicines को  sell कर  सकें।  जितना  बड़ा  डर  होगा  उतनी  बड़ी  इनकी  कमाई  भी  होगी।

हद  तो  तब  हो  जाती  है  जब  Cardiologists heart attack का  खौफ  दिखा  कर  patients को  heart से  related महंगे  महंगे  tests या  scans करा  कर  अक्सर  लूट  लेते  हैं।  In today’s time a great deal of amount is spent on heart and brain related diseases।  और  तो  और  आपको already मालुम  ही है कि heart से  related medicines कितनी  महंगी  मिलती  हैं।  बेचारा  आदमी  50 सालों  में  जो  पैसा  कमा  कर  घर  लाता   है  वही  पैसा  ज़िन्दगी  के  आखरी  50 दिनों  में  उसकी  बिमारी  में  लग  जाता  है- बिमारी  भी  ऐसी  जो  उसकी  गलती  के  कारण  कम  और  doctors की  चालाकी  के  कारण  उसे  हो   जाती  है।

 

Headache वाले  को  Brain Tumor diagnose किया  जाता  है, Stomachache वाले  को  Appendix की  बिमारी  बतायी  जाती  है, और  Urine में  मामूली  सी  जलन  को  Kidney की  बड़ी  बिमारी  बताई  जाती  है । इन  सब  के  पीछे  एक  बड़ा  vicious corporate network काम  कर  रहा  है  जिसमें  हमारे  देश  की  सरकार  के  representatives भी  शामिल  हैं।

 

Endoscopy, Sonography, Radiology, Ultrasound, CT Scan, MRI, X-Ray, etc और  ना  जाने  कितने  costly tests करवा कर  आम  जनता  को  ये doctors बड़ी  आसानी  से  लूट  लेते  हैं  और  आम  लोगों  को  इसका  पता  भी  नहीं  चल  पाता।  उन्हें  आखिर  पता  कैसे  चलेगा  क्यूंकि  उन्हें  अपने  doctor पर  पूरा trust जो  है, पूरा  विश्वास  जो  है।  Doctors को  इतनी  भी  शर्म  नहीं  है  कि एक  patient  जो  trust कर  के  उसके  पास  अपने  इलाज  के  लिए  आया  है  क्या  उसका  इतना  फ़र्ज़  नहीं  बनता  कि  वह  sincere और  dedicated हो  कर  उसका  सही  तरह  से  इलाज  करे  न  कि  उसे  बेदर्दी  से  लूटे, उसका  exploitation करे।  बिमारी  का  न  होने  का  मतलब  है  doctors का  भूखे  मरना  और  आप  खुद  समझदार  हैं  कि  कौन  सा  doctor आखिर  भूखा  मरना  चाहता  है। इस  सब  के  बावजूद  भी  आज  हमारे   कठोर  और  लालची  हो  चुके  समाज  में  कुछ  ऐसे  doctors भी  हैं  जो  बड़े  sincere way में  और  true spirit से  patients का  इलाज  कर  रहे  हैं।  इन्हीं  doctors कि  बदौलत  डॉक्टरी  profession में  आज  भी  ethics और  morality जिन्दा  है।

 

How doctors earn from you:

By prescribing unnecessary and costly medicines and thus taking commission from pharmaceutical companies.

By prescribing costly and unrelated medical tests to innocent patients.

By making their patients compelled for routine check-ups.

By misdiagnosing their patients so that they could earn as much money as they can fleece from their patients.   

 

How doctors make you ill:

By letting you have unnecessary medicines that have the potential to weaken your immune system and thus making you prone to diseases which then attack your body and mind.

The MRI and CT Scans they recommend to you can subject you to different types of radiations and such radiations are harmful for human body.

They never make you completely healed up as they know that once their patients become completely healthy their perennial source of income would suddenly stop in the midway.

Leave a Reply